header

हैलो सरकार मोबाइल एप डाउनलोड करें...

HOME  |  ABOUT US   |  CONTACT US  |  HELLO SARKAR TV

Page Heading

नरेंद्र मोदी

 

 

सांगोद थाने के कांस्टेबल को रिश्वत लेते रंगे हाथों दबोचा, थानाधिकारी फरार

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) कोटा ने शुक्रवार को कार्रवाई करते हुए कोटा जिले के सांगोद थाने के कांस्टेबल को 11 हजार रुपए की रिश्वत लेते कोटा से रंगे हाथों गिरफ्तार किया। उक्त राशि कांस्टेबल ने सांगोद थाने में धोखाधड़ी के एक मामले में परिवादी को गिरफ्तार नहीं करने की एवज में ली थी।

हैलो सरकार संवाददाता कोटा। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) कोटा ने शुक्रवार को कार्रवाई करते हुए कोटा जिले के सांगोद थाने के कांस्टेबल को 11 हजार रुपए की रिश्वत लेते कोटा से रंगे हाथों गिरफ्तार किया। उक्त राशि कांस्टेबल ने सांगोद थाने में धोखाधड़ी के एक मामले में परिवादी को गिरफ्तार नहीं करने की एवज में ली थी। रिश्वत के इस खेल में सांगोद थानाधिकारी तथा कांस्टेबल का रिश्तेदार भी शामिल है। कार्रवाई की भनक लगते ही सांगोद थानाधिकारी फरार हो गया, जबकि कांस्टेबल का रिश्तेदार रिश्वत की राशि लेकर फरार है। पुलिस दोनों आरोपियों की तलाश कर रही है।
एसीबी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ठाकुर चन्द्रशील कुमार ने बताया कि परिवादी सांगोद निवासी लक्ष्मीनारायण व सहपरिवादी कोटा निवासी जयकुमार शर्मा ने 9 जून 2021 को कोटा एसीबी चौकी में शिकायत दी थी। इसी दिन टीम ने उसका सत्यापन कराया। जांच में पाया कि परिवादी लक्ष्मीनारायण व सहपरिवादी जयकुमार शर्मा के खिलाफ सांगोद थाने में धोखाधड़ी के मामले में अनुसंधान, अधिकारी थानाधिकारी जयराम जाट द्वारा किया जा रहा है तथा कांस्टेबल दिनेश मीणा थानाधिकारी का रीडर का कार्य किया जा रहा है। वह धोखाधड़ी के मुकदमे में गिरफ्तार करने की धमकी देकर पूर्व में परिवादी से 10 हजार रुपए ले चुका है। कांस्टेबल दिनेश परिवादी की गिरफ्तारी पर हाईकोई द्वारा रोक के आदेश होने के बावजूद उसे गिरफ्तार करने की धमकी दे रहा था। उसे गिरफ्तार नहीं करने की एवज में दिनेश, लक्ष्मीनाराण से 10 हजार व जयकुमार से 1,00,000 रुपए की मांग कर रहा था। जयकुमार ने रुपयों को कम करने को कहा तो 50,000 रुपए पर सहमति बनी। इसमें से 10 हजार रुपए कांस्टेबल दिनेश ने अपने लिए तथा 40 हजार रुपए थानाधिकारी जयराम जाट के लिए लेना बताया। कांस्टेबल दिनेश ने सांगोद थाने पर लक्ष्मीनारायण व जयकुमार को बुलाकर बात की, लेकिन रुपए नहीं लिए। दिनेश ने जयकुमार से रिश्वत के रुपए लेने के लिए कोटा आने को कहा।

header

25 जून को कांस्टेबल दिनेश ने जयकुमार को फोन कर बात की, जिसमें उसने थानाधिकारी जयराम जाट के साथ कोटा आने तथा शाम को जयकुमार के घर की तरफ मिलने के लिए कहा। इसके बाद डिटेन की कार्यवाही शुरू की गई। एसीबी की टीम न्यू जवाहर नगर में जयकुमार के घर के आसपास मौजूद रही। कांस्टेबल दिनेश ने उसके साले मोहित मीना को जयकुमार के घर रुपए लेने भेजा, लेकिन जयकुमार ने कांस्टेबल दिनेश को कॉल कर उसे ही राशि देने को कहा। इसके बाद कांस्टेबल दिनेश ने जयकुमार को मैन रोड पर मिलने के लिए कहा। इस पर एसीबी टीम ने जयकुमार को मैन रोड पर 11 हजार रुपए दिनेश को देने के लिए भेजा। वहां दिनेश उसके साले मोहित मीना के साथ बाइक से आया तथा जयकुमार को साथ लेकर अन्दर की तरफ गली में ले गया। दिनेश ने 11 हजार रुपए उसके साले मोहित को दिलवाए। बाकी 40 हजार रुपए बाद में देने के लिए कहा। जयकुमार के इशारा करने पर एसीबी टीम ने कांस्टेबल दिनेश को बाइक सहित दबोच लिया। जबकि मोहित अन्धेरे का फायदा उठाकर रुपए लेकर गलियों में भाग गया।

कार्रवाई की भनक लगते ही थानाधिकारी फरार
एसीबी की टीम थानाधिकारी की तलाश में सांगोद थाने गई, लेकिन कार्रवाई की भनक लगते ही थानाधिकारी जयराम जाट वहां से फरार हो गया। मोहित मीना व थानाधिकारी जयराम की तलाश में एसीबी की अलग-अलग टीमें संभावित स्थलों पर दबिश देकर तलाश कर रही हैं।

कांस्टेबल व थानाधिकारी निलंबित
इधर, कोटा ग्रामीण पुलिस अधीक्षक शरद चौधरी ने एक आदेश जारी कर इस मामले में आरोपित थाने के सीआई जयराम जाट व कांस्टेबल दिनेश मीणा को तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर दिया। सांगोद थाने में सीआई जयराम जाट के स्थान पर एएचटी यूनिट कोटा के पुलिस निरीक्षक बदन सिंह को लगाया है।

 

 

 

 

 

 

 

editor@hellosarkar.com   |   marketing@hellosarkar.com   |   hellosarkarnews@gmail.com
All rights reserved by www.hellosarkar.com

HOME | ABOUT US | CONTACT US | PRIVACY POLICY | DISCLAIMER | ENGINEER